Close

    मन्दबुद्धि दिव्यागों हेतु राज्य स्तरीय गृह (सिरतार)

    यह योजना वर्ष 2009 से प्रारम्भ है। राज्य सरकार द्वारा रोहतक में मन्दबुद्धि निःशक्त हेतु राज्य स्तरीय गृह की स्थापना की जा चुकी है । यह संस्थान सरकारी संस्थान के रूप में पंजीकृत है और इस संस्था में 200 बच्चों को रखने का लक्ष्य है । परन्तु इस समय 150 दैनिक एवं 50 छात्रावास में बच्चे रह रहें हैं । इस संस्थान में मन्दबुद्धि बच्चों को चिकित्सा, शिक्षण-प्रशिक्षण रहन-सहन, खान-पान व अन्य सुविधायें उपलब्ध कराई जाती हैं।

    (रू0 लाखों में)
    वर्ष लाभपात्रों की संख्या बजट प्रावधान खर्च हुई राशि
    2017-18 325.00 294.30
    2018-19 350.00 350.00
    2019-20 350.00 350.00